2021 में कैसे लिखें Mera Priya Khel Par Nibandh? मेरा प्रिय खेल निबंध

हेलो दोस्तों, उम्मीद करता हूँ आप सभी अच्छे और स्वस्थ होंगे । आज मै आप सभी को बताने वाला हूँ कि Mera Priya Khel Par Nibandh आप आसान भाषा में कैसे लिख सकते हैं? आपसे अनुरोध है कि इस लेख को अंत तक पढ़ें ताकि कोई भी जानकारी आपसे न छूटे |

दोस्तों, आमतौर पर छात्रों को खेल पर निबंध लिखने में काफी दिक्कत आती ही है | अगर आप पहली, दूसरी, तीसरी, चौथी, पांचवी, छठी, सातवीं, आठवीं, नौवीं या दसवीं कक्षा में हैं तो आप बिलकुल सही वेबसाइट पर आये हैं |

ये जानने से पहले कि Mera Priya Khel Par Nibandh कैसे लिखा जाए? पहले निबंध से ही शुरुआत कर लेते है:


पढ़ें Mera Priya Khel Par Nibandh | मेरा प्रिय खेल पर निबंध 


खेल-कूद हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग है जो हमारा तन और मन स्वस्थ रखने में मदद करता है । खेलों का नाम सुनते ही हर वर्ग भले ही कोई बच्चा, बूढ़ा या जवान हो, मन में एक कोतुहल सा जाग जाता है | खेल शारीरिक रूप से आपको फिट रखता है |

Mera Priya Khel Par Nibandh

खेल जगत का इतिहास बहुत ही ज़्यादा पुराना है और प्राचीन काल से ही हर धर्म और जाति के लोगों की इसमें रुचि रही है | खेल हमें समाज से जुड़ना सिखाते हैं | खेल दो तरह के होते हैं:

1. घर में बैठकर खेले जाने वाले खेल (Indoor Games) जैसे: लूडो, शतरंज, ताश के पत्ते  
2. घर से बाहर खेले जाने वाले खेल (Outdoor Games) जैसे: क्रिकेट, फुटबॉल, लॉन्ग जम्प आदि

फिर भी मेरा पसंदीदा खेल शतरंज (Chess) है । यह इंडोर खेल की श्रेणी में आता है और विश्वभर में बड़े ज़ोर और शोर से खेला जाता है | इतिहासकारों का मानना है की शतरंज पहली बार छठी शताब्दी में उत्तर भारत में खेला गया था |

प्रारंभिक समय में शतरंज को "चतुरंगा" के नाम से जाना जाता था | काफी प्रचलित होने के बाद इस खेल के नाम में बदलाव कर दिया गया जिसे आज हम शतरंज या चैस कहते हैं |    


शतरंज के नियम क्या हैं?


जैसे हर खेल में कोई न कोई नियम होते हैं उसी तरह शतरंज के भी कुछ नियम होते हैं | शतरंज एक वर्गाकार तख्ते पर खेला जाता हैं जिस पर काले और सफ़ेद रंग के छोटे-२ वर्गाकार खाने बने होते हैं और इनकी संख्या 64 होती हैं |

Mera Priya Khel Chess Par Nibandh


इस खेल को एक समय पर दो व्यक्तियों द्वारा खेला जाता हैं | कुल मिलकर इस खेल में 32 मोहरें होती है जिसमें से 16 विरोधी दल की होती हैं | ये मोहरें छे तरह की होती हैं जो कुछ इस प्रकार से हैं:

राजा (King):     दिशा चाहे कोई भी हो राजा सिर्फ एक कदम चलता है |
रानी (Queen):   रानी जिसे वजीर भी कहा जाता है, किसी भी दिशा में चल सकती है |
हाथी (Rook):     हाथी सीधी दिशा में चलता है और जितने मर्ज़ी कदम चल सकता है |
ऊँट (Bishop):    यह हमेशा तिरछी दिशा में चलता है और क़दमों की इसमें सीमा नहीं होती |
घोडा (Knight):  घोड़े के क़दमों की सीमा 2.5 (ढाई ) कदम होती है |

शतरंज का मुख्य उदेश्य विरोधी को मात देना होता है जिसमे किसी एक व्यक्ति को सभी मोहरों का इस्तेमाल करके राजा को पराजित करना होता है |

उपसंहार: शतरंज एक बहुत ही रोमांचक खेल है जो हमारी बुद्धी का तेज़ी से विकास करता है | चाहे को बच्चा, बूढ़ा या जवान हो सबको शतरंज अवश्य खेलना और सीखना चाहिए | शारीरिक सेहत के साथ व्यक्ति को अपनी बुद्धि के विकास पर भी ध्यान देना चाहिए |
    

Mera Priya Khel Cricket Par Nibandh | मेरा प्रिय खेल क्रिकेट पर निबंध 


आज के इस युग में खेल एक ऐसी चीज़ है जो हमारे मनोरंजन के साथ-२ हमारे शारीरिक स्वास्थ्य को बनाये रखने में काफी सहायता करता है और हमें मानसिक रूप से भी सशक्त बनाता है |

क्रिकेट मेरा सर्वप्रिय खेल है और मै हर रविवार के दिन अपने दोस्तों के साथ क्रिकेट खेलने पास के मैदान में जाता हूँ | मुझे क्रिकेट खेलने का बहुत ही ज्यादा शौंक है | मै अपने स्कूल में क्रिकेट टीम का कैप्टन भी हूँ |

क्रिकेट एक रोमांच से भरपूर खेल है जो कि एक बड़े से गोलाकार मैदान में एक 22 गज लम्बी पिच पर खेला जाता है । यह खेल दो टीमों के बीच खेला जाता है और जिसमें प्रतेयक टीम में ग्यारह-2 खिलाडी होते हैं | खेल में किसी तरह का भी निर्णय २ अम्पायरों द्वारा किया जाता है । हार और जीत सर्वाधिक रन बनाने वाली टीम पर निर्भर करती है |

परीक्षाओं के ख़त्म होने के बाद हमारे स्कूल के मैदान में 10 ओवर के क्रिकेट मैच का आयोजन किया गया | हमारा मुकाबला पास की ही एक स्कूल की टीम से हुआ जो कि बहुत सारे मैचों में काफी बार इनाम जीत चुकी थी | 

टॉस हमारी टीम ने जीता और हमने सबसे पहले बॉलीबाज़ी करने का फैसला किया | हमारी टीम ने 10 ओवर में सर्वाधिक 100 रन बनाये और विरोधी टीम जो कि दिल्ली पब्लिक स्कूल थी ने नौवें ओवर तक 92 रन बना लिए थे |

आखिर में खेल और भी ज़्यादा रोमांचक और डरावना हो गया था | विरोधी टीम ९८ रन बना कर सिमट गयी और हमारी स्कूल की टीम द्वारा मैच जीत लिया गया |